नए साल का धर्म

Written by Vidya Bhushan Rawat | Published on: January 9, 2018
नया साल मुबारक हो गुप्ता जी, मैंने कहा. आप बिलकुल गलत है हमें मुबारक नहीं चाहिए मंगलमय कहिये, उन्होंने मुझे सुधारते हुए कहा. मैंने उनसे पुछा क्यों : कहते है मुबारक मुसलमानों को होता है तो मैंने बताया तो साल भी उन्ही का होता है आपका तो वर्ष होना चाहिए और वो भी अप्रेल में. वैसे तो जनवरी से तो अंग्रेजी कैलंडर वर्ष शुरू होता है. गुप्ता को हैप्पी न्यू इयर बोलने में भी कोई अफ़सोस नहीं. परेशानी थी तो केवल मुबारक से.

naye saal ka dharma
 
ये वाकिया अभी दो दिन पहले का है जब पूर्वी उत्तर प्रदेश के एक इलाके में मैं था और गुप्ता उस क्षेत्र के बहुत बड़े साहूकार है जिनके कर्जे के तले वहा के मुशाहर और अन्य दलित पिछड़ी जातीया हमेशा दबे रहते है. भारत में बेंको ने कभी भी अपने नियम कानून ऐसे नहीं बनाये के गरीब व्यक्ति उस तक पहुँच सके. गुप्ता वैसे तो अपने को पिछड़ा कहते है लेकिन वैसे ही जैसे नरेन्द्र मोदी भी पिछड़े है. वैसे उनका अधिकांश 'ग्राहक' दलित और पिछड़े ही है. शायद ही कोई बनिया या ब्राह्मण उनसे उधार ले. बेंको के हरासमेंट से बचने के लिए गरीब मजदूर, किसान लोग साहुकारो के पास जाते हैं जहा बहुत बड़ी कागजी कार्यवाही नहीं करनी पड़ती है और लोन आसानी से मिल जाता है. आखिर गाँव के गरीबो को लोन भी कितना चाहिए लेकिन इसकी कीमत बहुत बड़ी है क्योंकि गरीब को ३६% वार्षिक व्याज के तौर पर देने पड़ते है. साहूकार ३% मासिक की दर पे ब्याज देते है. देखिये, है न हैरानगी की बात, के जहाँ दलाल स्ट्रीट के बड़े बड़े दलालों को सरकारी बैंक न्यूनतम दर पर ब्याज देते है और नहीं लौटाने पर कुछ नहीं करते वही साहूकार लोग गरीब की साइकिल से लेकर उसकी बची खुची जमीन तक गिरवी रखवा देते है वैसे गुप्ता साहेब व्याह शादियों में भी मदद कर देते है और इस कारण समाज में उनकी बहुत 'पकड़' है. लेकिन ये ही वो 'ताकत' है जो कम संख्या में होने के बावजूद भी सवर्ण जातियों का समाज में दबदबा बनाये रखती है. दुर्भाग्यवश इस तरफ कोई भी सकारात्मक प्रयास नहीं हुए. दलित पिछडो में ऐसे सकारात्मक प्रयासों की आवश्कता है जो लोगो को साहुकारो के चंगुलो से मुक्त कर सके लेकिन उसके लिए बहुत मेहनत करने की आवश्यकता है और ऐसे काम प्रोफाइल बिल्डिंग से नहीं हो सकते. ये बड़ी लड़ाई है. बहुत बार स्थानीय 'नेता' गुप्ताजी की जगह खुद को रख देते है और शोषण वैसे हो चलता रहता है. इससे कोई फरक नहीं पड़ता के शोषक कौन है. शोषक कोई भी हो उसका प्रतिकार होना चाहिए. गलती गुप्ता जी की नहीं अपितु इस व्यवस्था की है जिसने अध्संख्या लोगो को मानसिक गुलामी का शिकार बनाया है और लोग जब गुस्सा होकर विद्रोह भी करना चाहते है तो जो जाति के नाम पर विकल्प उपलब्ध होता है वो शायद गुप्ता से भी अधिक खतरनाक होता है और इसलिए लोग थक हारकर वापस उन्ही के पास चले जाते है.
 
बाबा साहेब आंबेडकर ने कहा था के राज्य की जिम्मेवारी बनती है अपनी जनता के हितो को संरक्षित करने के लिए लेकिन लगता है के राज्य बड़े लोगो को देश का पैसा देकर गरीबो की जमीन हडपना चाहता है या उसमे मदद करता है.
 
खैर, गुप्ता साहेब बहुत मिलन सार है. खाते पीते है और खुद भी दिन भर भैंस चराते है. वो अपने सारे काम खुद करते है. सुबह और शाम कलेक्शन करना और दिन भर भैंस चराना. उनकी पैसा कमाने की इच्छा अनंत है और इसके लिए वो स्वयं ही सभी काम करते है. यानी के पुरानी परम्पराओ के अनुसार गुप्ता जी बेहद ही कम खर्च में अधिक बिज़नस कर रहे है और मस्त भी रहते है. मोदी और योगी के परम भक्त. पिछले साल उत्तर प्रदेश में भाजपा के जीतने पर उन्होंने जोश में कहा था के मोदी जिन्दगी भर शासन करेंगे . उन्हें इस बात की बेहद ख़ुशी थी के एक बनिया देश का प्रधान मंत्री बन गया है और अब हम हिन्दू राष्ट्र बनने की और अग्रसर है. वो बोले, मोदी जी विदेश भ्रमण इसीलिये कर रहे ताकि यू एन ओ में भारत को हिन्दू राष्ट्र मान लिया जाए. मैंने उनसे पुछा के किसान मर रहे है, छोटे व्यापारी तबाह है, रोजगार बढ़ा नहीं तो उन्होंने हामी भरी. कहते है, अगली बार योगी मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे और यू पी में भाजपा में लोग अब टिकेट लेने के लिए भी तैयार नहीं है क्योंकि उन्हें पता है के उनकी भयंकर हार होने वाली है लेकिन देश में मोदी को कोई नहीं हटा सकता क्योंकि उन्होंने पाकिस्तान को सबक सिखाया, देश के सुरक्षा मज़बूत की है और चाइना से भी अच्छे से निपट रहे है.
 
गुप्ता जी की भावनाए कोई व्यक्तिगत नहीं है वो एक जाति के खयालो को दरसा रहा है हालाँकि अपवाद हर जगह हो सकते है. अगर गुजरात के अभी के चुनावो को देखे तो जी एस टी की मार व्यापारी वर्ग पर बहुत पड़ी और सूरत के व्यापारियों के वीडियोस व्हात्सप्प पर जबरदस्त सैर कर रहे थे लेकिन जब चुनाव परिणाम आये तो सूरत के व्यापारियों ने अपने सभी 'गम' भुलाकर वापस हिंदुत्व की नाव की सवारी करना उचित समझा. अपने गुप्ता जी के गणित को भी आप समझ सकते है और उससे अंदाजा लगा सकते है के जाति से बड़ा कोई नहीं. अगर आप जाति छोड़ देंगे तो समाज से टूट जाते है. इसलिए जातितोद्को को समाज में मानता नहीं है. गुप्ता जी कह रहे है के योगी का उत्तर प्रदेश में सफाया हो जायेगा लेकिन मोदी शासन करते रहेंगे. दरअसल, जाति बहुत महत्वपूर्ण है इसलिए गुप्ताजी मोदी जी में तो अपनापन देख रहे है लेकिन योगी के लिए रिस्क लेने को तैयार नहीं.
 
यह भी हकीकत है के योगी की ठकुराई में दूसरी जातीया परेशान है और राजपूतो को लेकर उग्र हिन्दुवाद को जिस तरीके से संघ आगे बढ़ाना चाहता है वो तो जातियों के अंतर्द्वंदो के वजह से कभी चल नहीं पायेगा. क्योंकि इस उग्रता के इनाम स्वरुप ब्राह्मणवादी भाजपा को उत्तर भारत के अधिकांश राज्य ठाकुरों या राजपूतो को सौंपने पड़े है. अब ये ऐसे गले की हड्डी है जो न निगलते बनती न रोकते क्योंकि नागपुर के संघ के मुख्यालय के सभी दिग्गज जानते है के राजपूतो या ठाकुरों का गुस्सा मोल लेकर अभी तो राजनीती नहीं हो सकती हालाँकि राजनाथ तो हासिये पर ही है .
 
गुप्ता जी से बात कर पता चलता है के संघ के व्हात्सप्प यूनिवर्सिटी में कैसे कैसे कहानिया तैयार की जा रही है जिसमे भारत की महानता से लेकर, मुसलमानों को खलनायक के तौर पर दिखाना, भारतीय संस्कृति की ब्राह्मणवादी व्याख्या करना और विकास के नाम पर मोदी जी की तरह जोर जोर से फेकना. चाहे मोदी और उनकी सरकार के विरुद्ध जैसे भी माहौल हो लेकिन भक्तो का विश्वास थोडा डोला तो है लेकिन फिर भी कायम है. यानी जो विकास के नाम पर मोदी आये थे वो बिलकुल झूठा था और मूलतः भक्त लोग उन्हें हिंदुत्व के अजेंडे पर देखना चाहते है लेकिन उन्हें खतरा केवल जाति से है जैसे गुप्ता जी मोदी में अपनी जाति देख रहे है और योगी में नहीं वैसे है अधिकांश राजपूत तभी तक भाजपा में है जब तक उनके नेताओं की स्थिति अच्छी है. गुजरात में पटेलो ने बीस साल में अपनी राजनैतिक ताकत खो दी इसलिए उसे प्राप्त करने के लिए ही इतना संघर्ष चल रहा है. हिंदुत्व इसलिए कुछ नहीं केवल पुरोहितवाद की मोनोपोली को बनाये रखने का एक तंत्र है जिसको ताकत देने के लिए उन्ही जातियों की सेवाए ली जाएँगी जो मनुवादी व्यवस्था का शिकार है. अंतर्द्वंदो से अपने काम बनाने में ब्रह्म्वान्वादी व्यवस्था का कोई मुकाबला नहीं. भारत के इतने बड़े इतिहास में इन अंतर्द्वंदो को समझ कर उनसे निपटना पड़ेगा. उनको छुपाकर सामाजिक या राजनितिक एकता नहीं बन सकती है.
 
हिंदुत्व ने आर्य बनाम अनार्य या ब्राह्मण बनाम गैर ब्राह्मण वाली बहस को बहुत चालाकी से मुस्लिम बनाम गैर मुस्लिम में बदल दिया है इसलिए ही ये सारे प्रपंच हो रहे है. अब साल के स्वागत में धर्म है, रंगों में धर्म है, खाने में धर्म और देशभक्ति है, कपडे पहनने और भाषा में भी धर्म है. लेकिन किसी को मारने में कोई शर्म नहीं है. धर्म में धंधेबाज आज इज्जत से टी वी पर आ रहे है, हम लुट रहे है. गाँव गाँव निरंकारी बाबा, शिव चर्चा, और अन्य महान आत्माए पहुँच चुकी है. प्रवचन जारी है. लोग कर्ज लेकर बाबाओं के पास जाते है और कर्ज में डूबने पर गुप्ता जी के पास आते है. कर्ज का एक साइकिल है वो ख़त्म नहीं होता. शादी, मुंडन, अंतिम संस्कार, ब्रह्मभोज अभी भी सबसे जायदा कहाँ होता है इसके लिए समाज शास्त्रियों को गाँव की और रुख करना पड़ेगा. असल में गुप्ता जैसे लोग ज्यादा बड़े समाजशास्त्री है क्योंकि वो उसकी मानसिकता को ज्यादा अच्छे से समझकर ही अपना व्यापार करते है.
 
भारत चाहे हिन्दू राष्ट्र बने या नहीं, भारत में एक हिंदूवादी सरकार है जो पुरोहितवादी पूंजीवादी अजेंडे पर काम कर रही है. इस हिन्दू राष्ट्र का मॉडल क्या होगा ? क्या पेशवाई वाला या ट्रावन्कोर का जहा पर शुद्रो अति शुद्रो को मनुवादी व्यवस्था के अनुसार काम करना पड़ता था. क्या आज के इस दौर में, जब बाबा साहेब अम्बेडकर, ज्योति बा फुले, और पेरियार का साहित्य पढ़कर अनार्य समाज खुल कर चनौती दे रहा हो, हिन्दू राष्ट्र के अनुयायी मनुवादी व्यवस्था को लागु करवा पाएंगे ? २१वी सदी का अम्बेडकरवादी भारत तो कम से कम इस चुनौती का मुंहतोड़ जवाब देगा लेकिन इसके लिए उसे उनलोगों के पास भी जाना पड़ेगा जो उनके तरह नहीं पढ़ लिख पाए या जिन्हें शहरों में आने का मौका नहीं मिला और जो जातियों के खेल में भी अल्पसंख्यक ही रह गए और आन्दोलन भी उन तक नहीं पहुंचा. उनकी भावनाओं, परम्पराओं या भोलेपन का मजाक न उड़ाकर, उन्हें गले लगाकर, उनके दुःख दर्दो को समझकर ही हम उन्हें अपने आन्दोलन का हिस्सा बना सकते है.