भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद को मुंबई में जनसभा से पहले महाराष्ट्र पुलिस ने किया नजरबंद

Published on: December 28, 2018
मुंबई। दलित शोषण के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को महाराष्ट्र में सभा से पहले पुलिस ने होटल में डिटेन कर लिया है। चंद्रशेखर आजाद ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। इसके साथ ही उन्होंने एक वीडियो भी जारी किया है जिसमें बताया है कि वे मलाड स्थित होटल में हैं जिसे पुलिस ने घेर लिया है.

चंद्रशेखर ने सोशल मीडिया के जरिए जानकारी दी है, ''हमें गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की गाड़ियों को बुला लिया गया। मोदी जी संवैधानिक अधिकारों को खत्म करने पर तुले है ?? क्या देश मे बोलने की भी आज़ादी नही बची?? संविधान पर हमले को हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। आप मुझे गिरफ्तार कीजिये हम महाराष्ट्र बंद करेंगे लेकिन तानाशाही नही चलेगी।''

एक और ट्वीट में चंद्रशेखर लिखते हैं, ''मैं अभी मुंबई मल्हाड स्टेशन के पास मनाली होटल में रुका हुआ हूँ अभी मुझे कुछ मीडिया के साथियों से मिलने जाना था लेकिन डरपोक फडणवीस सरकार की पुलिस ने होटल के गेट को सील करवा दिया है मुझे और हमारी पूरी टीम को बाहर नही निकलने दिया जा रहा है।''


चंद्रशेखर ने एक औऱ ट्वीट किया है जिसमें लिखा है, ''फडणवीस जी ये जो आपकी पुलिस ने हमे होटल में कैद किया हुआ है बता तो दीजिये किस कानून के अंतर्गत किया है ? या देश मे मनुस्मृति लागू कर दी है आपने?? जिसमे दलितों को बोलने का भी हक़ नही है लेकिन ये याद रखिये हम संविधान की रक्षा के लिए हर बलिदान को तैयार है। जय भीम जय संविधान।''



वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने यह जानकारी शेयर करते हुए लिखा है, ''चंद्रशेखर आजाद को सरकार कल मुंबई में जनसभा नहीं करने देना चाहती. आज उन्हें गिरफ्तार करने के लिए पुलिस भेज दी गई है. उनके मलाड स्थित होटल को घेर लिया गया है. मुख्यमंत्री फड़णवीस ऐसा किस कानून के तहत कर रहे हैं? संविधान का ये मजाक है.''

चंद्रशेखर आजाद को हिरासत में लिए जाने पर सामाजिक कार्यकर्ता एवं वरिष्ठ पत्रकार तीस्ता सीतलवाड़ ने लिखा है, ''आरएसएस की सरकार एकबोटे और भिड़े को खुली छूट दे रहीं है मगर अत्याचार और शोषण विरोधी अव्वाज़ों को दबा रही है। कब तक?''