मोदी का ‘मॉडल गुजरात’ बना ‘BIMARU राज्य’, सरकार की नाकामी से स्वाइन फ्लू का कहर

Written by Sabrangindia Staff | Published on: August 11, 2017
मोदी का ‘मॉडल गुजरात’ अब बीमर हो गया है। यहां के लोग स्वाइन फ्लू की चपेट में हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 10 अगस्त तक 150 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है वहीं करीब 1,100 ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। स्वाइन फ्लू के इस घातक प्रकोप से अधिकारी और लोग चिंतित हैं क्योंकि यह 2015 में हुई इसी तरह की घटनाओं की याद दिलाता है जब गुजरात इन मामलों में दूसरे स्थान पर था। इस वर्ष 517 मामले दर्ज किए थे।

Patients queue up outside the swine flu isolation ward at Civil Hospital in Ahmedabad
Image: Mail Today

रिपोर्ट के मुताबिक राजकोट में 26 मौतें हुई जबकि 120 मामले सामने आए वहीं अहमदाबाद में 287 मामले सामने आए जिसमें 36 मरीजों की मौत हो गई। ये दोनों शहर स्वाइन फ्लू के मामले राज्य के सबसे प्रभावित क्षेत्रों में है। विशेषज्ञों का कहना है कि न सिर्फ राजकोट, बल्कि पूरा सौराष्ट्र H1N1 बुखार की मार झेल रहा है क्योंकि यहां 49 मौत के मामले दर्ज किए गए हैं।
 
अहमदाबाद में, बुधवार और गुरुवार को दो दिन में पांच मामले हुए थे जिसमें 10 महीने का एक बच्चा, बापुनगर की एक 28 वर्षीय महिला, नवा नरोदा निवासी एक 35 वर्षीय महिला, विराटनगर के रहने वाले 45 वर्षीय एक व्यक्ति और मेमनगर के एक से 60 वर्षीय व्यक्ति शामिल है।
 
भुज निवासी एक 4 साल का बच्चा लड़का स्वाइन फ्लू वायरस का शिकार हो गया।
 
वडोदरा जिले में स्थिति बेहद खराब हो रही है जहां 19 मौतें हुई हैं। इनमें से बुधवार को एक ही दिन में चार मौत हो गई। सुरत में भी 10 लोगों की जान चली गई। इसमें एक पांच साल से कम उम्र का बच्चा भी है।
 
ज्ञात हो कि राज्य में सबसे पहले वर्ष 2009 में स्वाइन फ्लू के मामले सामने आए थे। इसके बाद लगातार स्वाइन फ्लू का प्रकोप जारी है। गुजरात में इस बीमारी के चलते सबसे ज्यादा मौत वर्ष 2015 में हुई थी।

बाकी ख़बरें