योगी के CM बनने के बाद 'गौशाला' के लिए रोकी गई बजट, 400 मवेशियों की हुई मौत

Written by Sabrangindia Staff | Published on: October 12, 2017
गाय को लेकर राजनीति करने वाली बीजेपी के नेतृत्व में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में स्थित कान्हा उपवन के गायों को ही छह महीने से भूखे रहना पड़ रहा है। इन मवेशियों को आधा पेट ही खाने को मिल पा रहा है जिससे इनके शरीर पर पड़ने वाला असर साफ तौर पर देखा जा जा सकता है। चारा और अन्य चीजों की कमी के चलते 400 मवेशियों की मत भी हो चुकी है।

Gaushala

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक लखनऊ के सरोजनीनगर स्थित इस गौशाला में 3030 गोवंश हैं। इन्हें पिछले 6 महीने से आधा पेट ही खाना मिल रहा है। कान्हा उपवन का संचालन करने वाली संस्था जीवाश्रय के पास मवेशियों के खाने के लिए चारे का बजट नहीं है। इसको लेकर जीवाश्रय के सचिव यतीन्द्र त्रिवेदी बेहद नाराज हैं और उन्होंने अगले महीने यानी 4 नवंबर के बाद कान्हा उपवन के संचालन का काम छोड़ने का धमकी भी दे दी है। योगी सरकार के पशुधन मंत्री एसपी सिंह बघेल पर आरोप है कि उन्होंने बजट रोक रखा है।

जीवाश्रय के सचिव त्रिवेदी के मुताबिक 'वित्त वर्ष 2016-2017 में अखिलेश सरकार की तरफ से कान्हा उपवन को 2.50 करोड़ का बजट मिला जो 30 मार्च 2017 को खत्म हो गया।' उन्होंने कहा कि बजट समाप्त होने की जानकारी नगर निगम से लेकर सरकार तक को दे दी गई है लेकिन वहां से केवल आश्वासन ही मिला है। बजट खत्म होने से गोवंशीय (गाय और सांड) सहित कुल 3030 जानवर पिछले 6 महीने से आधे पेट भोजन करने को मजबूर हैं।

यतीन्द्र ने आगे कहा कि वो बजट के खत्म होने के संबंध में पशुधन मंत्री एसपी सिंह बघेल से लेकर सीएम योगी तक को लेटर लिख चुके हैं। उन्होंने कहा कि इस साल 1 अप्रैल को जीवाश्रय संस्था की तरफ से सरकार को पत्र लिखा गया लेकिन उसका भी कोई जवाब नहीं आया। साथ ही 18 अगस्त 2017 को दूसरा पत्र सीएम योगी आदित्यनाथ को लिखा गया लेकिन वहां से भी कोई जवाब नहीं आया। तीसरा पत्र नगर आयुक्त को उपवन को लेकर जरूरी कदम उठाने के लिए पत्र लिखा गया लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं आया। न ही कोई अधिकारी मवेशियों का हाल जानने आया।

यतीन्द्र के अनुसार प्रमुख सचिव नगर विकास और पशुधन मंत्री एसपी सिंह बघेल ने कान्हा उपवन को अनुदान देने से साफ तौर पर इंकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि पशुपालन मंत्री एसपी सिंह बघेल से मुलाक़ात हुई तो उन्होंने ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 470 गौशालाएं हैं तो हम सिर्फ आपको ही पैसा क्यों दें?
यतीन्द्र ने बताया कि कान्हा उपवन में इस साल 1 अप्रैल से 10 अक्टूबर तक कुल 400 मवेशियों की मौत हो चुकी है। साथ ही उन्होंने कहा कि बजट न मिलने की वजह से जीवाश्रय संस्था के लिए काम करने वाले 44 लोगों को 6 महीने से सैलरी नहीं मिली जिससे उन्होंने काम छोड़ दिया।

बाकी ख़बरें