UP में कानून-व्यवस्था चौपट, बीजेपी विधायक ने दो मुस्लिम भाईयों के हत्यारे की तरफदारी की, समाज के लोगों में नाराजगी

Written by Sabrangindia Staff | Published on: August 12, 2017
बीजेपी शासित प्रदेशों में हिंसा और अपराध थमने का नाम नहीं ले रहा है। इन राज्यों में कानून व्यवस्था पूरी तरह चौपट है। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में रक्षाबंध के दिन दो मुस्लिम युवकों की हत्या के बाद समाज में भय का माहौल है। इतना ही नहीं बीजेपी विधायक संजीव राजा ने हत्यारों की तरफदारी की जिसके बाद स्थानीय लोगों में बेहद नाराजगी है।  

Aligarh
Image: Patrika / Youtube

जुमे (11जुलाई2017) की नमाज के बाद पीड़ित परिवार को मुआवजा दिलाने के लिए समाज के स्थानीय लोगों ने मांग की लेकिन उस पर प्रशासन द्वारा कार्रवाई कर तितर-बितर कर दिया गया। इस दौरान काफी संख्या में लोग जमा हुए। स्थानीय लोगों का कहना है कि मुआवजे की मांग कर रहे लोगों पर पुलिस ने फायरिंग की जिसके बाद हालात और बिगड़ गए। पुलिस की कार्रवाई से लोग भड़क गए। इस कार्रवाई में कई लोग घायल भी हो गए।

बता दें कि अलीगढ़ में सबसे व्यस्त रेलवे रोड पर मोहम्मद वसीम और मोहम्मद आशू की हत्या दूसरे समाज के लोगों ने कर दी थी जिसके बाद स्थिति खराब हो गई। घटना से शहर में सनसनी फ़ैल गयी और बाजार बंद हो गया। मामला दो समुदायों से जुदा होने के चलते शहर में भारी पुलिस फ़ोर्स तैनात कर दिया गया। लोगो में दहशत का माहौल है। बता दें कि सुरेश नाम के व्यक्ति ने दोनों भाईयों की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

कांग्रेस पार्टी के अलीगढ़ महानगर उपाध्यक्ष सद्दाम खान ने फोन पर बातचीत के दौरान बताया कि पुलिस प्रशासन हत्या के आरोपियों पर कार्रवाई करने के बजाए बेगुनाह लोगों पर ही कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार और प्रशासन मामले को दबाने की कोशिश कर रही है। साथ ही सद्दाम ने कहा कि स्थानीय बीजेपी विधायक संजीव राजा पीड़ितों से मिलने और उन्हें सांत्वना देने के बजाए हत्यारों की पैरवी कर रहे है।

सद्दाम का कहना है कि पिछले विधानसभा चुनावों में योगी आदित्यनाथ को प्रचंड बहुमत कानून व्यवस्था के नाम पर ही मिला था लेकिन यहां ये पूरी तरह चौपट है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान योगी आदित्यनाथ, पीएम नरेंद्र मोदी में कानून व्यवस्था दुरुस्त करने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान तत्कालीन सपा सरकार पर कानून-व्यवस्था को लेकर हमला किया गया था। राज्य में अभी के हालात सपा सरकार से भी बदतर देखे जा रहे हैं। यहां आए दिन किसी न किसी की हत्या कर दी जाती है, महिलाएं और लड़कियां खुद को असुरक्षित महसूस कर रही हैं।

अलीगढ़ में रक्षा बंधन के दिन दिनदहाड़े दो मुस्लिम युवकों की गोली मारकर हत्या कर दी गई जिसको लेकर इलाके में तनाव व्याप्त है। ज्ञात हो कि इस घटना से पहले एक नाबालिग लड़की की धारदार हथियार से उसके गले पर कई हमले किए गए जिससे उसकी मौत हो गई। इन घटनाओं से पता चलता है कि प्रदेश की योगी सरकार कानून व्यवस्था के मामले में पूरी तरफ असफल है। वह अपराधों को रोकने में नाकाम हो रही है।

सद्दाम ने आगे कहा कि दो भाइयों की सुरेश नाम के एक व्यक्ति ने गोली मारकर हत्या कर दी और संजीव राजा इस घटना को आत्मरक्षा का नाम देकर सुरेश की तरफदारी कर रहे हैं। इसके चलते पीड़ित समुदाय के लोग भड़क गए और जुमे की नमाज के बाद उन्होंने संजीव राजा के खिलाफ नारेबाजी की और कार्रवाई की मांग की। दो भाईयों की हत्या के बाद समाज के लोगों में खौफ का माहौल है। उन्होंने कहा कि दो दिन में तीन हत्याएं हो गई, प्रशासन अपराधियों पर लगाम लगाने में विफल साबित हो रही है।

जिलाधिकारी ने प्रदर्शकारियों से इलाके में शांति बनाए रखने की अपील की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अलीगढ़ के एसएसपी राजेश पांडे ने पुलिस फायरिंग से इनकार किया है। स्थानीय लोगों का दावा है कि भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस अधिकारी ने हवा में गोलीबारी की थी।
 

बाकी ख़बरें